Wishing You 👉 Click Here 


Business

चलती ट्रैन से मोबाइल फोन गिर जाने पर क्या करें – Train Chain Pulling Rules In Hindi

यदि आप जानना चाहते हैं कि ट्रैन में अगर आप बिना किसी कारण चैन खींच देते हैं तो आपको उसमें 10000 तक का जुर्माना या तीन महीने तक कि जेल हो सकती है । तो आज के इस पोस्ट पर मैं आपको बताने वाला हूँ कि ट्रैन में चैन खींचने के क्या नियम है और साथ ही मैं आपको यह भी बताऊँगा की यदि चलती ट्रैन से आपका मोबाइल फोन या कोई और सामान गिर जाता है , तो आपको क्या करना चाहिये ? तो आप नीचे बताई गई जानकारी को आखिरी तक पढ़ते रहें इसके बाद आप जान जायेंगे की चलती ट्रेन से मोबाइल फोन या कोई और सामान गिर जाने पर आपको क्या करना चाहिये और ट्रेन में चैन खींचने के क्या नियम होता है ?

चलती ट्रैन से मोबाइल फोन गिर जाने पर क्या करें - Train Chain Pulling Rules In Hindi

Train Chain Pulling Rules – ट्रैन में चैन खींचने के क्या नियम है ?

पहले हम बात करते हैं कि किस स्थिति में ट्रैन में चैन खींचना कानूनी है ? 
 1. कोई सहयात्री जो 60 साल से ज्यादा है या कोई बच्चा छूट जाये और ट्रैन चल दे । 
 2.  Train में आग लग जाये ।
 3. बुजुर्ग और दिव्यांग व्यक्ति को ट्रैन में चढ़ने में समय लग रहा हो और ट्रैन चल दे ।
 4. अचानक बोगी में किसी की तबियत बिगड़ जाये जैसे कि दौरा पड़ना या हार्टअटैक होना ।
 5. ट्रैन में झपटमारी , चोरी या दकौटि की घटना हो जाये ।

तो आप इन स्थितियों में ट्रैन की चैन खींच सकते हैं । यह एक कानूनी है और इसमें आपको कोई जुर्माना नहीं देना पड़ेगा ।

Train Chain Pulling काम कैंसे करती है ?

अब हम बात करते हैं कि ट्रैन में चैन पुल्लिंग काम कैंसे करती है ? पहले ट्रैन में हर बॉगी के दीवारों पर हर तरफ जंजीरे दी जाती थी मगर गलत इस्तेमाल होने के कारण Railways ने इनकी जंजीरों की संख्या घटा दी अब इन्हें केवल बॉगी के बीच में दिया जाता है ।

अलार्म वाली जंजीरें ट्रेन की मेन ब्रेक पाइप से जुड़ी होती है , इस पाइप में हवा का दबाव होता है , जिससे ट्रेन रफ्तार में चलती है , मगर चेन पुलिंग के वक्त यह हवा बाहर निकल जाती है , हवा के दबाव में आई कमी के कारण , ट्रेन की स्पीड कम हो जाती है , जिसके बाद लोको पायलट ट्रैन रोकता है ।

Train Chain Pulling की क्या सजा होते हैं ? ?

चलिये अब हम बात करते हैं कि ट्रेन चेन पुलिंग के लिए क्या सजा होती है ?
           इंडियन रेलवे एक्ट 1989 की धारा 141 के तहत अगर कोई यात्री या कोई दूसरा व्यक्ति , बिना किसी जरूरी वजह के जंजीर का इस्तेमाल करता है या रेलवे स्टाफ के काम में इंटरफ्रेंस करता है तो रेलवे एडमिनिस्ट्रेशन यात्रियों और रेलवे स्टाफ के काम में बाधा डालने के चलते दोषी को 1 साल की सजा या ₹1000 तक का जुर्माना या फिर सजा या जुर्माना दोनों ही कर सकता है । किसी भी हालत में यह सजा पहली बार पकड़े जाने पर ₹500 के जुर्माने से दूसरी बार या उससे ज्यादा बार पकड़े जाने पर 3 महीने की कैद से कम नहीं हो सकती ।


चलती ट्रैन से मोबाइल फोन गिर जाने पर क्या करें ?

चलिये अब हम बात करते हैं कि यदि चलती ट्रेन से आपका मोबाइल फोन या ऐसे ही कोई और सामान गिर जाता है तो आपको क्या करना चाहिये ?
                              अगर आपका मोबाइल फोन चलती ट्रेन से गिरा है और किसी सुनसान जगह पर गिरा है , तो उसका मिल जाना 99% तय होता है ।
आपको बस इतना करना है , मोबाइल के गिरते ही मोबाइल फोन को देखने की बजाय सामने की इलेक्ट्रॉनिक पोल पर लिखा हुआ नंबर देखना है । उसके बाद आपको रेलवे प्रोटक्शन फोर्स या R.P.F. की हेल्पलाइन 182 पर कॉल करनी है , और उन्हें बताना है कि आपका मोबाइल फोन किन स्टेशन्स के बीच और कितने नम्बर इलेक्ट्रॉनिक पोल के पास गिरा हुआ है । इसके बाद R.P.F. आपका मोबाइल ढूंढ लेगी और आप उस स्टेशन पर जाकर अपनी पहचान बता कर आप अपनी मोबाइल वापस ले सकते हैं ।
रेलवे प्रोटक्शन फोर्स यानी R.P.F का ऑल इंडिया सिक्योरिटी का हेल्पलाइन नम्बर है 182 इसे आप किसी भी वक्त डायल करके मदद मांग सकते हैं । ऐसे ही G.R.P का हेल्पलाइन नंबर है 1512 इसे भी डायल करके सिक्योरिटी की मांग की जा सकती है । और रेल पैसेंजर हेल्प लाइन नंबर है 138 रेल यात्रा के दौरान किसी भी परेशानी की हालत में इस नंबर पर डायल करके भी मदद मांगी जा सकती हैं ।
ट्रेन में चेन खींचने पर काफी सख्त की जा रही है पहले 500 या हजार रुपया लेकर छोड़ दिया जाता था । लेकिन अब कोर्ट ₹10000 तक का जुर्माना लगा रही है । ऐसी ही कई सारे केसेस जिसमें कोर्ट ने ₹6000 से लेकर ₹10000 तक का जुर्माना लगाया है बिना किसी वैलिड रीजन के कारण चेन खींचने पर ।
उम्मीद करता हूं कि आपको मेरे द्वारा बताई गई पूरी जानकारी अच्छे तरीके से समझ में आ गई होगी यदि आपको अभी भी कोई चीज समझ में नहीं आई हो या फिर आप मुझसे कुछ पूछना चाहते हैं तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में मुझसे पूछ सकते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close